RBSE Activity 2.2 Class 10 Science Solutions in Hindi

आज हम RBSE Activity 2.2 Class 10 Science Solutions in Hindi को अच्छे से समझने वाले हैं जो कि  अध्याय 2 अम्ल , क्षार और लवण पर आधारित हैं |

RBSE Activity 2.2 Acids, Bases and Salts

Activity 2.2 Class 10 Science in Hindi

 

गतिविधि(Activity)

  • बारीक कटी हुई प्याज तथा स्वच्छ कपडे के टुकड़े को एक प्लास्टिक के थैले में लीजिये\
  • थैले को कस कर बंध दीजिये तथा पूरी रात फ्रीज में रहने दीजिये | अब इस कपड़े के टुकड़े का उपयोग अम्ल एवं क्षारक की जांच के लिए किया जा सकता है|
  • इनमें से दो टुकड़े लीजिये एवं उनकी गंध की जांच कीजिये |
  • इन्हें स्वच्छ सतह पर रखकर उनमे से एक टुकड़े पर तनु HCl विलयन की कुछ बूंदे एवं दुसरे पर तनु NaOH विलयन की कुछ बूंदे डालिए|
  • दोनों टुकड़ों को जल से धोकर उनकी गंध की पुन: जांच कीजिये|
  • अपने प्रेक्षणों को लिखिए|
  • अब थोड़ा तनु वेनिला और लौंग का तेल लीजिये  और उनकी गंध की जांच कीजिये।
  • एक परखनली में तनु HCl विलयन एवं दूसरी में तनु NaOH विलयन लीजिये |
  • दोनों में तनु वेनीला एसेंस की कुछ बूंदे डालकर use हिलाइए| उसकी गंध की पुन: जांच कीजिये| यदि गंध में कोई बदलाव है तो use दर्ज कीजिये|
  • इसी प्रकार तनु HCl विलयन एवं दूसरी में तनु NaOH के साथ लौंग के तेल की गंध में आये परिवर्तन की जांच कीजिये और अपने प्रेक्षणों को दर्ज कीजिये |

 

अवलोकन(Observation):

उपरोक्त गतिविधि  में  निम्नलिखित अवलोकन देखे गए हैं-

प्याज: सल्फ्यूरस एलियम की उपस्थिति के कारण प्याज में एक अजीब गंध होती है।  प्याज की गंध क्षारक  में कम हो जाती है क्योंकि यह एक अम्ल  की तरह प्रतिक्रिया करता  है और अम्ल  में जैसा  है वैसा ही रहता है।

वेनिला एसेंस : वेनिला में एल्डिहाइड की उपस्थिति के कारण एक सुखद गंध होती है और यह एक कमजोर अम्ल  है इसलिए वेनिला एसेंस को क्षारक में मिलाया जाता है, तो उसकी गंध गायब हो जाती है । लेकिन जब   वेनिला एसेंस को किसी अम्ल में मिलाया जाता है तो उसकी गंध बनी रहती है |

लौंग का तेल:   क्षारकों  में इसकी विशिष्ट गंध का पता नहीं लगाया जा सकता है।

निष्कर्ष(Conclusion):

गंधीय  संकेतक अम्लीय और क्षारकीय  माध्यम में गंध को बदलते हैं।

Leave a Comment